Master Degree क्या है एवं यह कितने साल की होती है

किसी एक खास विषय में मास्टरी हासिल करने के लिए कई विद्यार्थी मास्टर डिग्री को करते है लेकिन कई विद्यार्थियों को इस बात की अच्छे से जानकारी नहीं होती है कि Master Degree क्या है, मास्टर डिग्री कितने साल की होती है और इसे कैसे किया जा सकता है. इन सभी सवालों के जवाब को इस आर्टिकल के माध्यम से मास्टर डिग्री क्या होती है, मास्टर डिग्री इन हिंदी के बारे में विस्तृत रूप से बताया गया है.

सामान्यत: कॉलेज / यूनिवर्सिटी में विद्यार्थियों द्वारा पहले स्नातक की डिग्री हासिल की जाती है एवं इसके बाद किसी मास्टर डिग्री कोर्स में प्रवेश लिया जाता है. Master Degree करके कोई भी अभ्यर्थी किसी एक खास subject में अपने ज्ञान को बढ़ा सकता है. यहाँ से अभ्यर्थियों को मास्टर डिग्री मीनिंग इन हिंदी एवं मास्टर डिग्री कैसे प्राप्त करें से रिलेटेड पूरी जानकारी मिलेगी.

शिक्षा वो सागर है जिसमें जितनी डुबकियां लगाएं, उतना कम है क्योंकि शिक्षा के क्षेत्र में अनेको प्रकार की डिग्रीयां करवाई जाती है जिन्हें कोई स्टूडेंट चाहें तो जिंदगी भर तक कर सकता है. शिक्षा के क्षेत्र की एक महत्वपूर्ण डिग्री मास्टर डिग्री के बारे में इस आर्टिकल में बताया गया है.

Master Degree क्या है

Master Degree क्या है, master degree kya hoti hai
जानें Master Degree क्या है

ग्रेजुएशन यानि स्नातक करने के बाद स्नातकोत्तर के लिए हासिल की जाने वाली डिग्री को Master Degree कहते है। MA, MSc, MCOM, MBA, MTech इत्यादि कोर्स मास्टर डिग्री के उदाहरण है। Master Degree को हिंदी में स्नातकोत्तर की उपाधि कहते है।

आसान शब्दों में कहें तो मास्टर डिग्री एक अकादमिक डिग्री है जो विश्वविद्यालयों या कॉलेजों द्वारा MA, MSc, MCOM, MBA, MTech जैसे स्नातकोत्तर के कोर्स को पूरा करने पर दी जाती है। एक मास्टर डिग्री के लिए अभ्यर्थियों को सामान्यत: स्नातक के कोर्स को करने के बाद स्नातकोत्तर कोर्स में एडमिशन लेना होता है या इसे graduation की डिग्री के साथ integrated course के रूप में किया जा सकता है।

Master Degree को आमतौर पर ‘Master of …‘ फॉर्म का उपयोग करके बताया जाता है जैसे Master of Arts, Master of Commerce इत्यादि। मास्टर डिग्री के क्षेत्र में आमतौर पर मास्टर ऑफ आर्ट्स (एमए) और मास्टर ऑफ साइंस (एमएससी) डिग्री हैं, जिसे भारत में सबसे ज्यादा स्टूडेंट्स करते है।

ध्यान दें कि मास्टर डिग्री कोर्सेज को स्नातकोत्तर, पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सेज भी कहा जाता है. जो स्टूडेंट पीएचडी करना चाहते है, उन्हें बैचलर डिग्री लेने के बाद सम्बंधित विषय में मास्टर डिग्री हासिल करना जरूरी है. इसके बाद ही उसे पीएचडी में एंट्रेंस टेस्ट के माध्यम से एडमिशन मिल सकता है.

मास्टर डिग्री मीनिंग इन हिंदी: Graduation करने के बाद post graduation के लिए किए जाने वाले सभी कोर्सेज को मास्टर डिग्री कहा जाता है।

मास्टर डिग्री कितने साल की होती है

जो भी अभ्यर्थी मास्टर डिग्री का कोई कोर्स करना चाहता है, उनके मन में यह सवाल तो जरूर आता है कि मास्टर डिग्री कितने साल की होती है या मास्टर डिग्री को करने में कितने वर्ष लगते है तो उन्हें बता दें कि मास्टर डिग्री के अधिकतर कोर्सेज की अवधि दो साल की होती है.

मास्टर डिग्री के कुछ कोर्सेज ऐसे भी है जिन्हें करने में दो साल से ज्यादा समय लगता है जैसे Doctor of Medicine (MD). अभ्यर्थी मास्टर डिग्री को किसी यूनिवर्सिटी या कॉलेज से रेगुलर या डिस्टेंस लर्निंग के माध्यम से कर सकते है.

मास्टर डिग्री कैसे करें

अगर आपका सवाल है कि मास्टर डिग्री कैसे करें तो आपको बता दें कि मास्टर डिग्री करने के लिए अभ्यर्थी को सबसे पहले बैचलर यानि graduation की डिग्री पूरी करनी होगी। किसी भी स्ट्रीम से graduation करने के बाद अभ्यर्थी उस स्ट्रीम से जुड़े या अन्य किसी master degree कोर्स में admission ले सकते है।

यदि किसी अभ्यर्थी ने बैचलर ऑफ आर्ट्स की डिग्री हासिल की है तो मास्टर डिग्री के लिए एमए कर सकता है, बीएससी करने वाले एमएससी कर सकते है एवं बीकॉम करने वाले अभ्यर्थी एमकॉम को मास्टर डिग्री हेतु कर सकते है। ध्यान दें कि बीए करने वाले एमएससी या एमकॉम नहीं कर सकते है जबकि अन्य स्ट्रीम के अभ्यर्थी एमए कर सकते है जैसे बीएससी करने के बाद एमए करना।

Engineering से graduation करने वाले अभ्यर्थी मास्टर डिग्री के लिए एमटेक (M.Tech), एमई (ME) इत्यादि कोर्स में प्रवेश ले सकते है। मेडिकल सेक्टर में graduation के बाद विद्यार्थी master degree course हेतु MD (Doctor of Medicine), Masters in Hospital Administration, MS in Clinical Pathology, Masters in Public Health, M.Tech in Biomedical Engineering and Biological Sciences जैसे कोर्सेज कर सकते है।

Master Degree में admission अभ्यर्थियों किसी भी यूनिवर्सिटी या कॉलेज में प्रवेश सत्र शुरू होने पर ले सकते है। कई यूनिवर्सिटी या कॉलेज में graduation के अंकों के आधार पर masters में admission मिल जाता है जबकि कई यूनिवर्सिटी एवं कॉलेज मास्टर कोर्सेज में एडमिशन के लिए entrance test आयोजित करवाते है।

MBA, MD, MCA, MTech जैसे मास्टर डिग्री कोर्सेज में admission लगभग सभी यूनिवर्सिटी / कॉलेजों द्वारा प्रवेश परीक्षा के आधार पर ही मिलता है। इसके लिए स्टूडेंट्स को ऑनलाइन application form भरने होते है एवं प्रवेश परीक्षा देनी होती है। इसके बाद उपलब्ध सीटों एवं केटेगरी के आधार पर कट ऑफ मार्क्स जारी किए जाते है एवं मास्टर्स में एडमिशन दिया जाता है।

मास्टर डिग्री की फीस हर कोर्स एवं यूनिवर्सिटी/कॉलेज के अनुसार अलग-अलग होती है। सामान्यत: एमए, एमएससी, एमकॉम इत्यादि कोर्स में की फीस कम होती है जबकि MBA, MD, MCA, MTech कोर्सेज की फीस ज्यादा होती है। इसके साथ ही यूनिवर्सिटी/कॉलेज के आधार पर भी फीस कम-ज्यादा हो सकती है।

See Also: नीट क्या है और कैसे करें

मास्टर डिग्री कोर्स इन इंडिया

भारत में अनेकों यूनिवर्सिटी एवं कॉलेजों द्वारा विभिन्न प्रकार के मास्टर डिग्री कोर्स करवाए जाते है। स्टूडेंट्स मास्टर डिग्री के प्रमुख कोर्सेज के बारे में जानकारी नीचे दी टेबल से ले सकते है।

Master Degree CoursesDuration
Master of Arts (M.A.)2 Years
Master of Science (M.Sc.)2 Years
Master of Commerce (M.Com)2 Years
Master of Social Work (MSW)2 Years
Master of Computer Applications (MCA)2 Years
Masters in Design/Fashion2 Years
Masters in Hotel Management2 Years
Master of Business Administration (MBA)2 Years
Master of Philosophy (M.Phil)2 Years
M.Sc in Information Technology (M.Sc IT)2 Years
Master of Technology (M.Tech)2 Years
Master of Architechture (M.Arch)2 Years
Master of Laws (LLM)2 Years
Master of Veterinary Science (MVSc)2 Years
Doctor of Medicine (MD)3 Years

मास्टर डिग्री कोर्स इन इंडिया की यह लिस्ट है लेकिन courses सिर्फ इन तक सीमित नहीं है। विभिन्न यूनिवर्सिटी द्वारा इनसे अलग कई प्रकार के अन्य master degree course भी करवाए जाते है। स्टूडेंट्स इन कोर्सेज में admission यूनिवर्सिटी/कॉलेज द्वारा निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार ले सकते है।

Master Degree क्यों करनी चाहिए

विद्यार्थी अपने आप से यह प्रश्न पूछकर यह जान सकते है, कि मास्टर डिग्री क्यों करनी चाहिए। सामान्यत: यह प्रश्न छात्रों के लिए अपने मास्टर डिग्री कोर्स/पाठ्यक्रम को चुनने के अपने कारणों की व्याख्या करने का एक मौका है, कि वे मास्टर डिग्री क्यों हासिल करना चाहते हैं, और साथ ही यह भी बताता है कि उनके पास पहले से मौजूद किसी भी प्रासंगिक कौशल, अध्ययन या कार्य अनुभव का उल्लेख करते हैं।

विद्यार्थियों द्वारा कोई भी या किसी भी विषय में मास्टर डिग्री का अध्ययन करने के कुछ सामान्य कारण होते है जो नीचे दिए गए हैं:

  • विद्यार्थी का किसी एक विषय में ज्यादा इन्टरेस्ट है एवं वो इस विषय के बारे में और कुछ जानना चाहता है तो वो उस विषय से मास्टर डिग्री के लिए अप्लाई करता है।
  • मास्टर डिग्री विद्यार्थियों को किसी एक खास विषय में अपने ज्ञान (knowledge) को बढ़ाने में सहायता करती है।
  • Master Degree करके विद्यार्थी किसी विषय के बारे में गहनता से जान सकते है, उस विषय से जुड़े तथ्यों/टॉपिक्स के बारे में शोध कर सकते है।
  • किसी विशेष करियर को आगे बढ़ाने, अपने वर्तमान करियर में आगे बढ़ने या यहां तक कि करियर को पूरी तरह से बदलने के लिए कई बार अभ्यर्थियों को और ज्ञान, योग्यता या कौशल हासिल करने के लिए मास्टर डिग्री की आवश्यकता होती है।
  • कई बार किसी खास पेशे में योग्यता पाने के लिए भी मास्टर डिग्री की आवश्यकता होती है तो स्टूडेंट्स उस सेक्टर/पेशे में जाने के लिए Master Degree करते है।
  • यदि किसी अभ्यर्थी को लगता है कि Master Degree करके यानि एक अतिरिक्त योग्यता उसके लिए रोजगार के नए अवसर पैदा कर सकती है तो वो मास्टर डिग्री को pursue करने के लिए जाता है।
  • कई बार Industry requirement भी अभ्यर्थियों को मास्टर डिग्री करने के लिए बाध्य करती है।
  • भारत में पीएचडी करने के लिए अभ्यर्थी के पास पोस्ट graduation यानि मास्टर डिग्री का होना जरूरी है। अत: कई अभ्यर्थी पीएचडी हेतु मास्टर डिग्री करते है।
  • साथ ही कई ऐसे जॉब है जिनकी प्रवेश परीक्षा देने के eligibility पाने के लिए भी अभ्यर्थियों के पास Master Degree का होना अनिवार्य है जैसे टीचिंग से जुड़ी कई जॉब्स।

ऊपर बताए गए कारणों के अलावा और भी कई कारण हो सकते है जिनकी वजह से कोई अभ्यर्थी Master Degree करता है। अगर आपका मास्टर डिग्री क्या होती है, और कैसे करें से रिलेटेड कोई भी प्रश्न है तो आप कमेन्ट करके पूछ सकते है।

मास्टर डिग्री के बारे में जानकारी

मास्टर डिग्री का मतलब क्या होता है?

मास्टर डिग्री का मतलब वो डिग्री होती है जो उन अभ्यर्थियों/विद्यार्थियों को स्नातकोत्तर (post graduation) स्तर पर दी गई एक शैक्षणिक योग्यता है, जिसे विद्यार्थियों ने graduation करने के बाद किसी एक खास सब्जेक्ट का अध्ययन करके पाई है।

मास्टर डिग्री कितने साल की होती है?

भारत में सामान्यत: मास्टर डिग्री दो साल की होती है लेकिन कुछ ऐसे कोर्स है जिनमें अभ्यर्थियों को master degree हासिल करने के लिए 3-4 साल लगाने पड़ते है।

मास्टर डिग्री कौन कौन सी है?

एमए, एमएससी, एमकॉम, एमटेक, एमसीए, एमबीए, एमफिल इत्यादि मास्टर डिग्री कोर्स है। इन कोर्सेज में एडमिशन विद्यार्थियों को स्नातक डिग्री (graduation) करने के बाद मिलता है।

Leave a Comment

हर अपडेट सबसे पहले पाने के लिए टेलीग्राम ग्रुप जॉइन करें